The Vedic Philosophy (ऋषिचिंतन)

Home » Introduction » पञ्चकोश साधना स्वाध्याय सामग्री

पञ्चकोश साधना स्वाध्याय सामग्री

आत्म-परिष्कार की उच्चस्तरीय साधना में स्वाध्याय हेतु कुछ चयनित पुस्तकों के नाम, जो निजी लाइब्रेरी में रखे जाने चाहिए।

1.गायत्री महाविज्ञान
2.गायत्री की पंचकोशी साधना
3.सावित्री कुण्डलिनी और तंत्र,
4.साधना पद्धतियों का ज्ञान और विज्ञान
5.व्यक्तित्व विकास हेतु उच्चस्तरीय साधनाएं
6.प्रज्ञोपनिषद्
7.यजुर्वेद
8.कर्मकांड भास्कर
9.108 उपनिषद्
10.योग दर्शन
11.वेदांत दर्शन
12.गीता
13. पंचकोशी साधना प्रशिक्षण शांतिकुंज (1 से 9मई 2014)

Philosophical Literatures

Philosophical Literatures

कुछ पुस्तकों के ऑनलाइन लिंक उपलब्ध हैं

गायत्री की पंचकोशी साधना एवं उपलब्धियां :

 गायत्री महाविज्ञान :
http://literature.awgp.org/…/Gayatri…/GayatriMahavigyan/

 

108 उपनिषद् ( ब्रह्मविद्या खण्ड, ज्ञानखण्ड, साधना खण्ड)
108 उपनिषद् : ब्रह्मविद्या-खण्ड
108 उपनिषद् : ज्ञानखण्ड
108 उपनिषद् : साधनाखण्ड

योगदर्शन

http://literature.awgp.org/…/vedPuranDarshan/yogdarshan/

 

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र 

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र :1 –  http://literature.awgp.org/hindibook/VaigyanikAdhyatmavad/gayatri_aur_savitri_ek_hi_mahashakti_ke_do_roop

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र :2

http://literature.awgp.org/hindibook/VaigyanikAdhyatmavad/savitri_ka_shakti_strot_savita_devta

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र :3

http://literature.awgp.org/hindibook/VaigyanikAdhyatmavad/suryopasna_ka_gyan_vigyan

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र :4

http://literature.awgp.org/hindibook/VaigyanikAdhyatmavad/adhyatmik_kaam_vigyan

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र :5

http://literature.awgp.org/hindibook/VaigyanikAdhyatmavad/kundlini_mahashakti_aur_uski_sansiddhi 

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र :6

http://literature.awgp.org/hindibook/VaigyanikAdhyatmavad/shatchakron_ka_swaroop_aur_rehesya

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र :7

http://literature.awgp.org/hindibook/VaigyanikAdhyatmavad/kundlini_jagran_ki_dhyan_sadhnayen

सावित्री, कुण्डलिनि एवं तंत्र :8

http://literature.awgp.org/hindibook/VaigyanikAdhyatmavad/savitri_vigyan_aur_tantra_sadhna

 

Video Lectures by Sri Lal Bihari Singh, a direct desciple of Poojya Pt. Sriram Sharma Acharya ji (Founder of Gayatri Parivar) at Shantikunj Haridwar.

%d bloggers like this: